gulzar shayari gam ke aansu zindagi ke: गुलजार शायरी गम के आँसू

gulzar shayari gam ke aansu zindagi ke liye: गुलजार शायरी गम के आँसू. apno ne dil tod diya shayari. dil tod shayari sms. bewafa shayari dil tod diya tumne promise tod diya shayari प्यार में धोखा बेवफा शायरी दिल तोड़ स्टेटस. shayari dard bhari zindagi hindi. shayari gulzar gam ke aansu mein. gulzar shayari gam ke aansu dena. gulzar shayari gam ke aansu wali.प्यार में दर्द भरी शायरी हिंदी में.

 

gulzar shayari gam ke aansu zindagi ke

 

सब कुछ मिला सुकून की दौलत न मिली,

एक तुझको भूल जाने की मोहलत न मिली,

करने को बहुत काम थे अपने लिए मगर,

हमको तेरे ख्याल से कभी फुर्सत न मिली.

***

Sab Kuch Mila Sukoon Ki Daulat Na Mili,

Ek Tujhko Bhool Jaane Ki Mohalat Na Mili,

Karne Ko Bahut Kaam The Apne Liye Mgr,

Humko Tere Khyaal Se Kabhi Fursat Na Mili..

***

हसीनो ने हसीन बनकर गुनाह किया,

औरों को तो ठीक पर हम को भी तबाह किया,

अर्ज़ किया जब ग़ज़लों मे उनकी बेवफ़ाई को तो,

औरों ने तो ठीक उन्होने भी वा वा किया..

***

Haseeno ne haseen banker gunah kiya,

Auro ko to thik par hum ko bhi tabah kiya,

Arz kiya jab ghazlo mein unki bewafai ko to,

Auro ne to thik unhone bhi wa wa kiya..

***

गुलजार शायरी गम के आँसू वाली

 

वो रोए तो बहुत पर मुझसे मुंह मोड़ कर रोए,

कोई मजबूरी होगी जो दिल तोड़ कर रोए,

मेरे सामने कर दिए  मेरी तस्वीर के टुकड़े,

पता चला मेरे पीछे वो उन्हे जोड़ कर रोए..

***

Wo roye to bahut par mujhse muh mod kar roye,

Koi mazburi hogi jo dil tod kar roye,

Mere samne kar diye meri tasveer ke tookade,

Pata chala mere piche wo unhe jod kar roye..

***

gulzar shayari gam ke aansu zindagi ke
  • Save

 

gulzar shayari gam ke aansu dosti mein

 

ऐ दोस्त कभी ज़िक्र-ए-जुदाई न करना,

मेरे भरोसे को रुस्वा न करना,

दिल में तेरे कोई और बस जाये तो बता देना,

मेरे दिल में रहकर बेवफाई न करना..

***

Aye dost kabhi zikra ye judai na karna,

Mere bharose ko ruswa na karna,

Dil mein tere koi or bas jaaye to bata dena,

Mere dil mein rahkar bewafai na karna..

***

हमनें अपनी साँसों पर उनका नाम लिख लिया,

नहीं जानते थे कि हमनें कुछ गलत किया,

वो प्यार का वादा करके हमसे मुकर गए,

ख़ैर उनकी बेवाफाई से हमनें कुछ तो सबक लिया..

***

gulzar shayari gam ke aansu

Hamne apni sanson par unka naam likh Liya,

Nahi jante the ki hamne kuch galat kiya,

Wo pyar ka wada karke hamse mukar gaye,

Khair unki bewafaai se hamne kuch to sabak liya..

***

gulzar shayari gam ke aansu zindagi ke
  • Save

 

मेरी वफा की कदर ना की,

अपनी पसंद पे तो ऐतबार किया होता,

सुना है वो उसकी भी ना हुई,

मुझे छोड दिया था उसे तो अपना लिया होता..

***

shayari dard bhari zindagi hindi

Meri wafa ki kadar na ki,

Apni pasand pe to etebaar kiya hota,

Suna hai wo uski bhi na hue,

Mujhe chhod diya tha use apna liya hota..

***

मेरे दिल के दरिया में मोहब्बत की कश्ती है,

मेरे ख़्वाबों की दुनिया में यादों की बस्ती है,

मोहब्बत के इस बाजार में चाहत का सौदा है,

यहाँ वफ़ा की कीमत से तो बेवफाई सस्ती है..

***

gulzar shayari gam ke aansu ke liye

mere dil ke dariya main mohabbat ki kashti hai,

mere khwabo ki duniya main yaado ki basti hai,

mohabbat ke is baazaar main chaahat ka sauda hai,

yaha wafa ki kimat se to bewafai sasti hai..

***

काश कोई हम पर भी इतना प्यार जताती,

पीछे से आकर वो हमारी आँखों को छुपाती,

हम पूछते की कौन हो तुम,

और वो हँसकर खुद को हमारी जान बताती..

***

Kash koi hum par bhi itna pyar jatati,

Pichhe se aakar wo hamari aankhon ko chhupati,

Hum puchte ki kaun ho tum,

Or wo hans kar khud ko hamari jaan batati..

***

काच का तोफा ना देना कभी किसी को,

रुठ के लोग तोड़ दिया करते हैं,

जो बहुत अच्छे हो उनसे प्यार मत करना,

अच्छे लोग हि दिल तोड़ दिया करते हैं..

***

Kach Ka Tofha Na Dena Kabhi Kisi Ko,

Ruth Ke Log Tor Diya Karte Hai,

Jo Bhut Achche Ho Uanse Payar Mat Karna,

Achche Log Hi Dil Tod Diya Karte Hai..

***

हकीकत जान लो जुदा होने से पहले,

मेरी सुन लो अपनी सुनाने से पहले,

यह सोच लेना भुलाने से पहले,

बहुत रोई हैं आँखें मुस्कुराने से पहले…

***

gulzar shayari gam ke aansu ke teri bewafai ke

Haqeeqat jaan lo juda hone se pehle,

Meri sun lo apni sunane se pehle,

Yeh soch lena bhulane se pehle,

Bahut roi hai aankhe muskurane se pehle..

***

उल्फत का अक्सर यही दस्तूर होता है,

जिसे चाहो वही अपने से दूर होता है,

दिल टूटकर बिखरता है इस कदर,

जैसे कोई कांच का खिलौना चूर-चूर होता है…

****

Ulfat ka aksar yahi dastoor hota hai,

Jise chaho vahi apne se door hota hai,

Dil toot kar bikharta hai is kadar,

Jaise koi kaanch ka khilona choor-choor hota hai..

***

मेरे इस दर्द की वजह भी वो हैं,

और मेरे दर्द की दवा भी तो वो हैं,

वो नमक ज़ख्मों पर लगाते हैं तो क्या,

मोहब्बत करने की वजह भी तो वो हैं…

***

Mere is dard ki wajah bhi wo hai,

Aur mere dard ki dawa bhi to wo hai,

Wo namak zakhmo par lagate hai to kya,

Mohabbat karne ki wajah bhi to wo hai..

***

gulzar shayari gam ke aansu zindagi ke
  • Save

 

हमसे कोई खता हो जाये तो माफ़ करना,

हम याद न कर पाएं तो माफ़ करना,

दिल से तो हम आपको कभी भूलते नहीं,

पर ये दिल ही रुक जाये तो माफ़ करना..

***

gulzar shayari gam ke aansu ke

Humse koi khata ho jaaye to maaf karna,

Hum yaad na kar paaye to maaf karna,

Dil se to hum aapko kabhi bhulte nahi,

Par ye dil hi ruk jaaye to maaf karna..

***

इस दिल को किसी की आहट की आस सी रहती है,

निगाह को किसी सूरत की प्यास रहती है,

तेरे बिना जिन्दगी में कोई कमी तो नहीं,

फिर भी तेरे बिना जिन्दगी उदास रहती है..

****

Is dil ko kisi ki aahat ki aas si rahti hai,

Nigaah ko kisi surat ki pyaas rahti hai,

Tere bina zindagi mein koi kami to nahi,

Fir bhi tere bina zindagi udaas rahti hai..

***

जब कोई मजबूरी में जुदा होता है,

जरूरी नहीं है कि वो बेवफा होता है,

देकर वो तुम्हारी अश्को में आँसू,

अकेले में तुमसे ज्यादा रोता है..

****

bewafa shayari dil tod diya tune

Jab koi mazboori mein juda hota hai,

Jaruri nahi hai ki wo bewafa hota hai,

Dekar wo tumhari ashko mein aansu,

Akele mein tumse zyada rota hai..

***  

बेवफाई आपसे नही अपने आप से है

मुझे कि आपके दिल में इतनी भी

जगह नही बना पाए हम कि आप अपना

समझ कर हमे अपने दिल की बात कह सको..

***

Bewafai aapse nahi apne aap se hai

mujhe ki aapke dil mein itni bhi,

jagah nahi bana paye hum ki aap apna,

samjh kar hame apne dil ki baat kah sako..

***

गुलजार शायरी गम के आँसू

 

तनहाइयों के शहर में एक घर बना लिया,

रुसवाइयों को अपना मुक़द्दर बना लिया,

देखा है यहाँ पत्थर को पूजते हैं लोग,

इसलिए हमने अपने दिल को भी पत्थर बना लिया.

***

Tanhaiyon ke shahar mein ek ghar bana liya,

Rusawaiyon ko apna muqdar bana liya,

Dekha hai yaha patthar ko pujte hai log,

Isliye humne apne dil ko bhi patthar bana liya..

***

0 Shares

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap