Home nafrat

nafrat bhari shayari in hindi? प्यार हद से ज्यादा नफरत उससे भी ज्यादा 2023

134
0
nafrat bhari shayari in hindi
nafrat bhari shayari in hindi

nafrat bhari shayari in hindi? प्यार हद से ज्यादा नफरत उससे भी ज्यादा 2023, प्यार हद से ज्यादा नफरत उससे भी ज्यादा in English, नफरत नहीं है किसी से बस अब कोई अच्छा नहीं लगता, नफ़रत नहीं है किसी से, बस अब कोई पसंद नहीं है ।नाम से ही जलायेंगे उन्हें जिनको नफरत है हमसे, मुझसे नफरत मत करो बस पहले मुझे जान लो! प्यार हद से ज्यादा नफरत उससे भी ज्यादा.

nafrat bhari shayari in hindi

 

nafrat nahi hai kisi se bas ab koi achchha nahi lagta, nafrat nahi hai kisi se, bas ab koi pasand nahi hai naam se hi jalaayenge unhen jinko nafrat hai humse, mujhse nafrat mat karo bas pahle mujhe jaan lo! pyar had se jyada nafrat usase bhi jyada.

 

प्यार हद से ज्यादा नफरत उससे भी ज्यादा

 

मोहब्बत सच्ची हो तो कभी नफरत नहीं होती है,

अगर नफरत होती है तो मोहब्बत सच्ची नहीं होती है..?

 

mohabbat sacchi ho toh kabhi nafrat nahi hoti hai,

agar nafrat hoti hai toh mohabbat sacchi nahi hoti hai..?

****

अपनों से नफरत शायरी

 

कुछ इस अदा से निभाना है किरदार,

मेरा मुझको  जिन्हें मुहब्बत ना हो,

मुझसे वो नफरत भी ना कर सके..

 

nafrat bhari shayari in hindi

 

kuchh is ada se nibhana hai kirdar,

mera mujhko jinhen muhabbat na ho,

mujhse wo nafrat bhi na kar sake..

****

जा तुझे मौका दिया  जी भर के नफरत कर ले,

और जब नफरत से जी भर जाए  तो प्यार को मौका देना..

 

ja tujhe mauka diya jee bhar ke nafrat kar le,

aur jab nafrat se jee bhar jaye to pyar ko mauka dena..

***

झूठ से नफरत शायरी

 

तेरी वफा भी हमें जैसे एक ख्वाब लगती है,

तेरे इश्क में मिली ये बर्बादी  भी हमें लाजवाब लगती है..

 

teri wafa bhi hamen jaise ek khwab lagti hai,

tere ishq mein mili ye barbadi bhi hamen lajwab lagti hai..

***

nafrat bhari shayari in hindi

 

तुझे तो मोहब्बत भी तेरी औकात से ज्यादा की थी,

अब तो बात नफरत की है  सोच तेरा क्या होगा..

 

nafrat bhari shayari in hindi

 

tujhe to mohabbat bhi teri aukat se jyada ki thi,

ab to baat nafrat ki hai soch tera kya hoga..

****

नफरतों के जहां में हमको प्यार की बस्तियां बसानी हैं,

दूर रहना कोई कमाल नहीं  पास आओ तो कोई बात बने..

 

nafraton k jahan mein humko pyaar ki bastiyaan basaani hain,

door rahana koi kamal nahi paas aao to koi baat bane..

****

हमसे नफरत करने वाले

 

उसने मुझ से नफरत मरते  दम तक करने की कसम खा ली है,

और मैंने भी उसे प्यार मरते  दम तक करने की कसम खा ली है..

 

nafrat bhari shayari in hindi

 

usne mujh se nafrat marte dam tak karne ki kasam kha li hai,

aur maine bhi use pyar marte dam tak karne ki kasam kha li hai..

****

मुझसे नफरत मत करो बस पहले मुझे जान लो

 

खुदा सलामत रखना उन्हें  जो हमसे नफरत करते हैं,

प्यार न सही नफरत ही सही  कुछ तो है जो वो सिर्फ हमसे करते हैं..

 

khuda salamat rakhna unhen jo humse nafrat karte hain,

pyar na sahi nafrat hi sahi kuchh to hai jo woh sirf humse karte hain..

****

nafrat bhari shayari

 

जब चाहा उसने अपना बनाया मुझे,

मन भरने पर उसने ठुकराया मुझे,

गुस्सा आता था सिर्फ उसके झूठे प्यार पर,

अब नफरत करना उसने सिखाया मुझे..

 

nafrat bhari shayari in hindi

 

jab chaha usne apna banaya mujhe,

man bharne par usane thukraya mujhe,

gussa aata tha sirf usake jhoothe pyar par,

ab nafrat karna usne sikhaya mujhe..

****

जिंदगी से नफरत शायरी

 

कभी उसने भी हमें चाहत का पैगाम लिखा था,

सब कुछ उसने अपना हमारे नाम लिखा था,

सुना है आज उनको हमारे जिक्र से भी नफ़रत है,

जिसने कभी अपने दिल पर हमारा नाम लिखा था..

 

kabhi usne bhi hamein chahat ka paigam likha tha,

sab kuchh usane apana hamare naam likha tha,

suna hai aaj unko hamare jikr se bhi nafrat hai,

jisne kabhi apne dil par hamara naam likha tha..

****

nafrat bhari shayari hindi

तेरी यादों ने नशा करने पर मजबूर कर दिया,

वरना मैं तो वो था जिसे सिगरेट के  धुंए से भी नफरत थी..

 

teri yaadon ne nasha karne par majboor kar diya,

varna main to woh tha jise cigarette ke dhune se bhi nafrat thi..

****

 

also read:-

 

 

हक़ छोड़ने की बात करो जनाब सब जुड़ जायँगे,

हक़ मांगने की बात करो सब छूट जायँगे,

यह दुनिया है जनाब आप कहाँ समझ पायंगे,

जितना बचना चाहेंगे उतना ही डूबता जायँगे..

 

nafrat bhari shayari in hindi

 

haq chhodne ki baat karo janab sab jud jaynge,

haq mangne ki baat karo sab chhut jaynge,

yeh duniya hai janab aap kahan samajh payange,

jitna bachna chahenge utana hi dubata jaaynge..

****

nafrat bhari shayari in hindi 2023

 

नफरत चांद की सितारों से हो तो वो,

अपनी चांदनी रोशनी कम कर देता है,

हम चांद तो नहीं पर अपनी,

सांसे हम भी कम कर सकते हैं..

 

nafrat chand kee sitaron se ho to woh,

apni chandni roshni kam kar deta hai,

hum chand toh nahi par apni,

sanse hum bhi kam kar sakte hain..

***

किसी को इतना भी तकलीफ मत देना कि उसको,

आपके साथ-साथ आपके नाम से भी नफरत हो जाये..

 

kisi ko itna bhi takleef mat dena ki usako,

aapke saath-saath aapke naam se bhi nafrat ho jaaye..

****

प्यार हद से ज्यादा नफरत उससे भी ज्यादा 2023

 

बनाके रखा था जिसे सर का ताज,

जो अपना था वही फरेबी निकला,

पीठ पे ही जिसने भोका खंजरी,

यारो वो और कोई नहीं अपना ही दोस्त निकला..

 

nafrat bhari shayari in hindi

 

banake rakha tha jise sar ka taj,

jo apna tha vahi farebi nikala,

peeth pe hi jisne bhoka khanjri,

yaaro woh aur koi nahi apna hi dost nikala..

****

कुछ लोग तो मुजसे सिर्फ इसलिए,

भी नफरत करते है क्योकि बहुत,

सारे लोग मुझसे प्यार करते है..

 

kuchh log toh mujse sirf isliye,

bhi nafrat karte hai kyoki bahut,

sare log mujhse pyar karte hai..

****

nafrat bhari shayari hindi

 

कहती हो तुम मुझसे नफरत करती हो,

फिर क्यों चुप चुप के हमे देखा करती हो..

 

kahti ho tum mujhse nafrat karti ho,

fir kyon chup chup ke hame dekha karti ho..

****

देख के हमको वो सर झुकाते हैं,

बुला कर महफ़िल में नजरें चुराते हैं,

नफरत हैं तो कह देते हमसे,

गैरों से मिलकर क्यों दिल जलाते हैं..

 

dekh ke humko woh sar jhukaate hain,

bula kar mehfil mein nazrein churaate hain,

nafrat hain toh keh dete humse,

gairon se milkar kyon dil jalaate hain..

****

नफरत करने वालो से भी  प्यार करो तो कोई बात बने,

अपने जिंदगी को कुछ यूं  बनाओ तो कोई बात बने..

 

nafrat karne valo se bhi pyar karo to koi baat bane,

apne jindagi ko kuchh yun banao to koi baat bane..

****

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here