Home nafrat

Nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari: नफरत शायरी in Hindi 2023

111
0
nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari
nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

Nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari: नफरत शायरी in Hindi 2023, जिंदगी के सफर में कई बार हमारा दिल तोड़ जाता है और हम मान सकते हैं कि मुझे अपनी जिंदगी से नफरत है। nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari. जीवन के अच्छे-बुरे पलों में से हम सबने वह लम्हे ज़रूर जीए हैं जब हमें अपने आत्मा के गहरे संवाद में एक ऐसा भाव मिला है। इसी दर्द और नफरत के भाव को शब्दों में प्रकट करने का सबसे मार्मिक तरीका है – शायरी।

Nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

मुझे अपनी जिंदगी से नफरत है के अन्तर्गत शायरी:

नफरत है मुझे अपनी जिंदगी से,

दिल के ज़ख्मों को बयां करने के लिए शायरी मेरी वजह से।

 

जिंदगी के रंग:

जिंदगी कभी भी अनियमित हो सकती है, और इसमें निरंतरता की कमी होती है। जब अच्छे पल हमारे पास होते हैं, तो हम अपनी जिंदगी से प्यार करते हैं। लेकिन जब कठिनाईयाँ आती हैं, तो नफरत का भावनात्मक संबंध हमारे अंतरात्मा में उत्पन्न हो सकता है।

 

Dil se nikli yeh nafrat ki awaaz

 

Shayari ke sahilon mein chhupi hai raaz.

Ehsaas hain ye gehre, dil se ubhre,

Kya hai is nafrat ki kahani, yeh suno mere.

 

Nafrat Shayari Ki Udgam Se Unka Vikas

 

Nafrat ki shayari, yeh vishesh dhara,

Mitti se judi yeh anmol baat saara.

Mirza Ghalib aur Faiz Ahmed Faiz ne bhi,

Is shayari mein apni baat kahi.

 

nafrat hai mujhe apni zindagi 2023

 

Naye rangon mein khud ko paa raha hai yeh naya doosra roop.

Aaj ke zamane mein bhi yeh shayari hai vikasit,

Aur naye mudde aur samvedansheelta se rangin.

 

Nafrat Shayari Ka Samaj Par Prabhav

 

Aaj ki daudti duniya mein, nafrat ki shayari,

Akelepan mein lipt aansuon ki baat saari.

Samaj mein bikhre akelepan ki kahani,

Online platforms par milti hai saathiyon ki jawani.

 

nafrat hai mujhe apni zindagi se

 

Bhasha ki kala mein chhipi hai nafrat shayari ki baat,

Rim-jhim, lay aur alankar se bharpoor hai yeh saari raat.

Shabd chunte hain saahityik jaise guzre pal ko,

Nafrat ki tasveer karte hain yeh shabdon ke jalo.

 

Nafrat Shayari 2023 Mein:

 

Samvedansheel Rachnaon Ka Pradarshan

2023 mein nafrat shayari ki phir se jagmagahat,

Naye shabdon se hai saari duniya jagmagahat.

Vyakti ki khoyi khoyi baatein, unki nafrat aur dukh,

Yeh shayari mein chhipi hai saari bhaavnaon ki rukh.

 

Kala Ke Rang: Kaviyon Ki Drishti

 

Har nafrat shayari ke piche koi kavi ka dard,

Apni anubhavon se judti hai yeh khaas baat hard.

Apne jazbaaton ko bayan karte hain kavi,

Unke shabd padhkar milta hai sukoon har sunne wale ko.

 

nafrat hai mujhe apni zindagi shayari

 

Shayari likhna aur padhna ho sakta hai ek chikitsaik upaay,

Nafrat shayari ka yeh gun hai vishesh uphaar apne saath lay.

Apne andar ke dabe hue bhavnaon ko nikalne ka tarika,

Is shayari se milega har kisi ko ek alag prakar ki chhutkara.

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

 

नफ़रत है मुझे अपनी ज़िंदगी से,

वो ग़म और दर्द जो खुद को छिपाती है।

कभी ख़ुशियाँ मिलती है ज़िंदगी की मायान में,

कभी दर्द की ख़ाक बन जाती है उसकी कहानी।

 

ज़िंदगी की राहों में बिखरी उसकी गर्मी,

बदल देती है सब कुछ, जैसे तूफ़ानी आंधी।

पर उसकी बेमिती चुप्प, उसकी नमी बुझ जाती,

नफ़रत की आग में, जिन्दगी की ख़्वाहिश भुज जाती।

 

मुझे अपनी जिंदगी से नफरत है

 

नफ़रत की बिना तस्वीर, बिना सिर्फ़ारिश,

शायरी की बोलती दास्तान जो हमें बताती है।

ख़ून से लबरेज़ लफ़्ज़ों की अमित भाषा,

नफ़रत की ज़िंदगी की ख़ुशियाँ को छीन जाती है।

 

इस नये साल में भी, नफ़रत की चुनौतियों से मुक़ाबला,

शायरी के रंगों में, हम कहानी बिछाते हैं अनोखी।

नफ़रत को भगाकर, हम लेते हैं मोहब्बत का जवाब,

शायरी की रिमझिम में, हम दिल की गहराइयों की खोज में खो जाते हैं।

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

 

नफ़रत की छाया में जिंदगी बसी हुई है,

खुद को खो बैठे हैं, ख्वाबों की दुनिया में खोए हुए।

हर दिन बिताने का आसरा नहीं होता,

नफ़रत की उड़ानों में, खो गई वो खुशियाँ हमारी।

 

अपनी ही ज़िंदगी से हो गई है बेरुख़ी,

नफ़रत के जंजालों में जकड़ी है हमारी रोज़ी-रोटी।

हर दिन दिल में छुपी है नफ़रत की दहलीज़,

शायरी के मोतीयों में लबों पर आई नफ़रत की बात।

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

नफ़रत शायरी in Hindi

 

नफ़रत की आग में जल रहा हूँ जिंदगी का आकार,

खुद की छाया में ढल रहा हूँ सपनों की उम्र।

ज़िंदगी के क़रीब लोगों ने दिया है सिखा,

नफ़रत की बदबू में भी छिपा है मोहब्बत का दरिया।

 

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

 

नफ़रत से जुदी हर बात बिखर चुकी है दिल में,

शायरी की बाँहों में मिलती है राहत नफ़रत के रास्तों की।

कभी-कभी लफ़्ज़ों की ज़ुबान से बयाँ हो जाती है दर्द की दास्तान,

नफ़रत की आँखों में भी छिपी होती है उसकी कहानी।

 

नफ़रत है मुझे अपनी ज़िंदगी से शायरी

 

नफ़रत से जुदी एक ख़ास कहानी है,

जिंदगी की उलझनों में बसी हर राहत कहानी है।

कभी मोहब्बत से जलती, कभी तक़दीर से ख़िलती,

नफ़रत की शायरी से हर दर्द की छवि छिपती है।

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

दिल के कोने में छिपी बदली हुई आस्तिनें,

नफ़रत के ख़िलौनों से लबों पर मुस्कान सिमटती है।

ज़िंदगी की गहराइयों में बसी हर दुःखभरी आवाज़,

नफ़रत की दुनिया से भरी हुई हर बात यहाँ कहानी है।

 

नफ़रत शायरी in Hindi 2023

 

नफ़रत की आग से जल रहा हूँ जिंदगी की खुशियाँ,

खुद को बिखरते हुए पाता हूँ नफ़रत की बेमिसाल दहलीज़।

कभी ज़िंदगी के आसमान में बिखर जाती नफ़रत की तारों की बर्फ़,

शायरी के शब्दों में मिलता हूँ मैं उसकी गहराइयों का सफर।

 

nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari

 

नफ़रत के रास्तों में खो गया हूँ मैं बिना राह दिखाए,

शायरी की मगर बोलते हैं उसके रहस्यों की कहानी।

कभी-कभी लबों से निकलती है वो नफ़रत की गुस्सैली बात,

शायरी की बुनाई में छिपा है उसकी ख़ुशियाँ की जड़।

 

Ant:

“Nafrat hai mujhe apni zindagi se shayari” (nafrat shayari in Hindi 2023) ek aisa safar hai jo hume insan ke ehsaas ki gehraiyon tak le jata hai. Is mithaas se bharpoor shayari ke zariye, hum apni nafrat aur dukh ko vyakt kar sakte hain, aur shabdon ki taqat se apne aap ko khojne aur theek karne ka mauka pa sakte hain.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here