dard bhari shayari gulzar ki, गम के आंसू शायरी, gam shayari 22

dard bhari shayari gulzar ki, गम के आंसू शायरी, gam shayari 22. dard bhari shayari gulzar. दर्द भरी शायरी हिंदी इंग्लिश दोनों में. Dardnak Shayari दर्द भरी खतरनाक शायरी, दर्द भरी ज्ञान की बातें. dard bhari shayari gulzar ki gam shayari hindi. dard bhari shayari gulzar ki gam shayari video. dard bhari shayari gulzar ki gam shayari download, dard bhari shayari gulzar ki gam shayari hindi mein.

 

dard bhari shayari gulzar

 

रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है,

ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है,

हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आँसू,

ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है..

 

Rone ki saza na rulane ki saza hai,

Ye dard mohabbat ko nibhane ki saza hai,

Hanste hai to aankho se nikal aate hai aansu,

Ye us shakhs se dil lagane ki saza hai..

****

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,

हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,

अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,

ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम..

 

Hanste hue zakhmo ko bhoolane lage hai hum,

Har dard ke nishan mitane lage hai hum,

Ab aur koi zulm satayega kya bhala,

Zulmon sitam ko ab to satane lage hai hum..

****

dard bhari shayari gulzar ki
  • Save

 

gulzar ki gam shayari

 

वो आज खूने दिल से मेंहदी लगाये बैठे हैं,

सारे किस्से मेरे दिल से लगाये बैठे हैं,

ख़ामोशी में भी एक शोर है उनकी,

सुर्ख जोड़े में खुद को बेवा बनाये बैठे हैं..

 

Wo aaj khune dil se mehandi lagaye baithe hai,

Sare kisse mere dil se lagaye baithe hai,

Khamoshi main bhi ek shor hai unki,

Surkh jode main khud ko bewa banaye baithe hai..

****

कागज़ पे हमने भी ज़िन्दगी लिख दी,

अश्क से सींच कर उनकी खुशी लिख दी,

दर्द जब हमने उबारा लफ्जों पे,

लोगों ने कहा वाह क्या गजल लिख दी..

 

Kaagaz pe hamne bhi zindagi likh di,

Ashk se sich kar unki khushi likh di,

Dard jab hamne ubara lafzon pe,

Logo ne kaha wah kya ghazal likh di..

****

dard bhari shayari gulzar ki
  • Save

 

दर्द भरी खतरनाक शायरी

 

जो था तुझ पर  तेरी बातों पर,

अब किसी और पर नहीं होता,

इस कदर टूटा हूँ तेरे इश्क में,

की अब तो यकीन पर भी यकीन नहीं होता..

 

Jo tha tujh par teri baato par,

Ab kisi or par nahi hota,

Is kadar toota hoon tere ishq main,

Ki ab to yakin par bhi yakin nahi hota..

****

dard bhari shayari gulzar ki
  • Save

 

Dardnak Shayari

 

कभी दर्द है तो दवा नहीं,

जो दवा मिली तो शिफा नहीं,

वो ज़ुल्म करते हैं इस तरह,

जैसे मेरा कोई खुदा नहीं..

 

Kabhi dard hai to dawa nahi,

Jo dawa mili to shifa nahi,

Wo zulm karte hai is tarah,

Jaise mera koi khuda nahi..

****

कह कर तुम बता नहीं सकते,

प्यार को अपने जता नहीं सकते,

फिर क्या फायदा तुम्हारी दोस्ती का,

जब एक भी वादा तुम निभा नहीं सकते..

 

Kah kar tum bata nahi sakte,

Pyar ko apne jata nahi sakte,

Fir kya fayada tumhari dosti ka,

Jab ek bhi wada tum nibha nahi sakte..

****

dard bhari shayari gulzar ki
  • Save

 

dard gulzar shayari

 

इस तरह मिली वो मुझे सालों के बाद,

जैसे हक़ीक़त मिली हो ख्यालों के बाद,

मैं पूछता रहा उस से ख़तायें अपनी,

वो बहुत रोई मेरे सवालों के बाद..

 

Is tarah mili wo mujhe saalo ke baad,

Jaise haqeeqat mili ho khyaalo ke baad,

Main puchta raha us se khataye apni,

Wo bahut roi mere sawalo ke baad..

****

हम उम्मीदों की दुनियां बसाते रहे,

वो भी पल पल हमें आजमाते रहे,

जब मोहब्बत में मरने का वक्त आया,

हम मर गए और वो मुस्कुराते रहे..

 

Hum umeedo ki duniya basate rahe,

Wo bhi pal pal hame aajmate rahe,

Jab mohabbat main marne ka waqt aaya,

Hum mar gaye or wo muskurate rahe..

****

shayari dard bhari gulzar

 

वो देता है दर्द बस हमी को,

क्या समझेगा वो इन आँखों की नमी को,

चाहने वालों की भीड़ से घिरा है जो हर वक़्त,

वो महसूस क्या करेगा बस एक हमारी कमी को..

 

Wo deta hai dard bas hami ko,

Kya samjhega wo is aankho ki name ko,

Chahne walo ki bhid se ghira hai jo har waqt,

Wo mahsoos kya karega bas ek hamari kami ko..

****

मोहब्बत वो हसीं गुनाह है

जो मैंने तुझसे ख़ुशी से किया है

पर मोहब्बत में इंतज़ार वो सजा है

सिर्फ इंतज़ार सिर्फ इंतज़ार सिर्फ इंतज़ार किया है..

 

Mohabbat wo hansi gunah hai,

Jo maine tujhse khushi se kiya hai,

Par mohabbat main intezar wo saza hai,

Sirf intezar sirf intezar sirf intezar kiya hai..

****

dard ki shayari gulzar ki

 

कल तुम्हे फुरसत ना मिली तो क्या करोगे,

इतनी मोहलत ना मिली तो क्या करोगे,

रोज़ कहते हो कल बात करेंगे,

कल हमारी आँखें ही ना खुली तो क्या करोगे..

 

Kal tumhe fursat na mili to kya karoge,

Itni mohalat na mili to kya karoge,

Roz kahte ho kal baat karege,

Kal hamari aankhe hi na khuli to kya karoge..

****

dard bhari shayari gulzar ki
  • Save

 

वो बात क्या करें जिसकी कोई खबर ना हो,

वो दुआ क्या करें जिसका कोई असर ना हो,

कैसे कह दे कि लग जाए हमारी उमर आपको,

क्या पता अगले पल हमारी उम्र ना हो..

 

Wo baat kya kare jiski koi khabar na ho,

Wo dua kya kare jiska koi asar na ho,

Kaise kahde ki lag jaye hamari umar aapko,

Kya pata agle pal hamari umar na ho..

****

kisi zulm ne mohabaat chhini

 

खामोश फ़िज़ा थी कोई साया न था,

इस शहर में मुझसा कोई आया न था,

किसी ज़ुल्म ने छीन ली हम से हमारी मोहब्बत,

हमने तो किसी का दिल दुखाया न था..

 

Khamosh fiza thi koi saya na tha,

Is shahar main mujhsa koi aaya na tha,

Kisi zulm ne chhin li hum se hamari mohabbat,

Hamne to kisi ka dil dukhaya na tha..

****

लिखूं कुछ आज यह वक़्त का तकाजा है,

मेरे दिल का दर्द अभी ताजा-ताजा है,

गिर पड़ते हैं मेरे आंसू मेरे ही कागज पर,

लगता है कि कलम में स्याही का दर्द ज्यादा है..

 

Likhun kuch aaj yah waqt ka taqaza hai,

Mere dil ka dard abhi taza taza hai,

Gir padte hai mere aansu mere hi kaagaz par,

Lagta hai ki kalam main syaahi ka dard zyaada hai..

****

0 Shares

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap