dard bhari shayari mere akelepan aur bebasi ki, जिंदगी की दर्द भरी शायरी

dard bhari shayari mere akelepan aur bebasi ki in hindi, जिंदगी की दर्द भरी शायरी. जिंदगी की शायरी प्यार भरी. दर्द भरी बातें दुख भरी जिंदगी. जिंदगी की दर्द भरी शायरी 2 Line. जिंदगी की दर्द भरी शायरी Status. किसी की याद में दर्द भरी शायरी, जिंदगी की दर्द भरी शायरी English.

 

dard bhari shayari mere akelepan aur bebasi ki

 

Hanste hue zakhmo ko bhulane lage hai hum,

Har dard ke nishaan mitane lage hai hum,

Ab aur koi zulm satayega kya bhala,

Zulmo sitam ko ab to satane lage hai hum..

 

हँसते हुए ज़ख्मों को भुलाने लगे हैं हम,

हर दर्द के निशान मिटाने लगे हैं हम,

अब और कोई ज़ुल्म सताएगा क्या भला,

ज़ुल्मों सितम को अब तो सताने लगे हैं हम..

****

read more:-

 

Aansu bhi aate hai aur,

Dard bhi chhupana padta hai,

Ye zindagi hai sahib yaha,

Jabardasti bhi muskurana padta hai..

 

आँसू भी आते हैं और,

दर्द भी छुपाना पड़ता है,

ये जिंदगी है साहब यहां,

जबरदस्ती भी मुस्कुराना पड़ता है..

****

mere akelepan aur bebasi ki

 

Tere Aise Sache Aashiq Hai Hum,

Dil Mein Jiske Pyar Na Ho Kabhi Kam,

Sache Pyar Mein To Zindagi Mehak Jaati Hai

Na Jaane Hamari Aankhe Kyu Hai Nam..

 

तेरे ऐसे सच्चे आशिक़ है हम,

दिल मे जिसके प्यार न हो कभी कम,

सच्चे प्यार में तो ज़िन्दगी महक जाती है,

ना जाने हमारी आँखे क्यों है नम..

****

Rone ki saza na rulane ki saza hai,

Ye dard mohabbat ko nibhane ki saza hai,

Hanste hai to aankho se nikal aate hai aansu,

Ye us shakhs se dil lagane ki saza hai..

 

जिंदगी की दर्द भरी शायरी

 

रोने की सज़ा न रुलाने की सज़ा है,

ये दर्द मोहब्बत को निभाने की सज़ा है,

हँसते हैं तो आँखों से निकल आते हैं आँसू,

ये उस शख्स से दिल लगाने की सज़ा है..

****

dard bhari shayari mere akelepan aur bebasi
  • Save

Chhipa kar dard apni hansi main,

Main ander se khokhla ho raha hoon,

Kya soon sakta hai too meri aawaaz,

Main aaj bhi sirf tere liye ro raha hoon..

 

छिपा कर दर्द अपनी हंसी में,

मै अंदर से खोखला हो रहा हूं,

क्या सुन सकता है तू मेरी आवाज़,

मै आज भी सिर्फ तेरे लिए रो रहा हूँ..

****

dard bhari shayari mere akelepan ki

 

Matlab ki duniya thi,

Isliye chhod diya sabse milna,

Varna ye chhoti si umar,

Tanhaai ke qabil nahi thi..

 

मतलब की दुनिया थी,

इसलिए छोड़ दिया सबसे मिलना,

वरना ये छोटी सी उम्र,

तन्हाई के काबिल नही थी..

****

dard bhari shayari mere akelepan aur bebasi
  • Save

Mohabbat ka mere safar aakhiri hai,

Ye kaagaz kalam ye ghazal aakhiri hai,

Main fir na miloonga kahi dhundh lene,

Tere dard ka ab ye asar aakhiri hai…

 

मोहब्बत का मेरे सफर आख़िरी है,

ये कागज कलम ये गजल आख़िरी है,

मैं फिर ना मिलूँगा कहीं ढूंढ लेना,

तेरे दर्द का अब ये असर आख़िरी है….

****

dard bhari shayari mere akelepan aur bebasi

 

Wo deta hai dard bas hami ko,

Kya samjhega wo in aankho ki nami ko,

Chaahne waalo ki bheed se ghira hai jo har waqt,

Wo mahsoos kya karega bas ek hamari kami ko..

 

वो देता है दर्द बस हमी को,

क्या समझेगा वो इन आँखों की नमी को,

​चाहने वालों की भीड़ से घिरा है जो हर वक़्त,

वो महसूस ​क्या ​करेगा ​बस ​एक हमारी कमी को..

****

Mujhe samjhne ka daur kabhi kyon nahi hota,

Mujhsa mazboor kabhi too kyon nahi hota,

Kya fark hai teri wafa aur meri wafa main,

Mujhe behisaab ho tujhe dard kyon nahi hota..

 

मुझे समझने का दौर कभी क्यूँ नही होता,

मुझसा मजबूर कभी तू क्यूँ नहीं होता,

क्या फ़र्क़ है तेरी वफ़ा और मेरी वफ़ा में,

मुझे बेहिसाब हो तुझे दर्द क्यूँ नहीं होता..

****

mere akelepan aur bebasi ki

 

ये सच है कि हम मोहब्बत से डरते हैं,

क्यूँ कि ये प्यार दिल को बहुत तड़पाता है,

आँख में आँसू तो हम छुपा सकते हैं,

दर्द-ए-दिल दुनिया को पता चल जाता है..

 

dard bhari shayari mere akelepan aur bebasi
  • Save

Ye Sach Hai Ki Hum Mohabbat Se Darte Hai,

Kyon Ki Ye Pyaar Dil Ko Bahut Tadpata Hai,

Aankh Main Aansu To Hum Chhupa Sakte Hai,

Dard-e-Dil Dunia Ko Pata Chal Jata Hai..

****

Aankho se door dil ke kareeb tha,

Main uska aur wah mera naseeb tha,

Na kabhi mila na juda hua,

Hamara rishta bhi kitna ajeeb tha..

 

आंखों से दूर दिल के करीब था,

मैं उसका और वह मेरा नसीब था,

ना कभी मिला ना जुड़ा हुआ,

हमारा रिश्ता भी कितना अजीब था..

****

Read More:-

dard bhari shayari mere

 

चेहरे पे हिजाब आँखों में शर्म,

तेरे हर किरदार की बात और हैं,

मुझे देखे तू मेरा ऐसा नसीब कहाँ,

सुना है तेरे चाहने वाले और हैं..

 

Chehre Pe Hizaab Aankho Main Shram,

Tere Har Kirdaar Ki Baat Or Hai,

Mujhe Dekhe Tu Mera Aisa Naseeb Kaha,

Suna Hai Tere Chaahne Waale Or Hai..

****

Tumhari tasveer dekh kar bhi man nahi bharta,

Tumhe dekhne ke siva kuch aur karne ka,

Man nahi karta chale gaye ho zindagi se aise jaise,

Suraz chaand se raabta nahi rakhta..

 

तुम्हारी तस्वीर देख कर भी मन नही भरता,

तुम्हे देखने के सिवा कुछ और करने का,

मन नही करता चले गए हो जिंदगी से ऐसे जैसे,

सूरज चाँद से राब्ता नही रखता..

****

0 Shares

Leave a Comment

0 Shares
Share via
Copy link
Powered by Social Snap